श्री शनि चालीसा

जय-जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महराज। करहुं कृपा हे रवि तनय, राखहु जन ...
Read more

मृत्यु के बाद क्या होता है?

श्रीमदभगवत गीता में भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को गीता का ज्ञान दे रहे हैं,,, ...
Read more

बरसाने के एक संत की कथा

एक संत बरसाना में रहते थे और हर रोज सुबह उठकर यमुना जी में ...
Read more

हनुमान जी के मंगलवार व्रत की कथा

क ब्राह्मण दम्पत्ति की कोई सन्तान नहीं थी, जिसके कारण दोनों पति-पत्नी काफी दुःखी ...
Read more

नारद मुनि भगवान श्रीराम के द्वार पर पहुँचे

एक बार की बात है, वीणा बजाते हुए नारद मुनि भगवान श्रीराम के द्वार ...
Read more

मृत्यु टाले नहीं टलती

भगवान विष्णु गरुड़ पर बैठ कर कैलाश पर्वत पर गए। द्वार पर गरुड़ को ...
Read more

अरण्य में राम

यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण और दूरगामी मंतव्यों वाला लेख है। सुधी पाठकों से आग्रह ...
Read more

मंथन जरूरी है (अहंकार, क्रोध ओर पछतावा )

अहंकार का फल क्रोध और क्रोध का फल पछतावा है.अहंकार से बचने का एक ...
Read more

श्री दुर्गा चालीसा

श्री दुर्गा चालीसा ॥चौपाई॥ नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अम्बे दुःख हरनी॥ ...
Read more

शिव-पूजा का फल

मथुरा नगरमें दाशार्ह नामक एक यदुवंशी राजा राज्य करता था। वह बड़ा ही गुणवान्, ...
Read more